कुल पेज दृश्य

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

शनिवार, 2 मार्च 2013

धूप का कहा ;डॉ. प्रार्थना पंडित

कैप्शन जोड़ें

धूप 

कहती रही / सुनती रही !
मौन की ये यन्त्रणा हय !
वो तिमिर छट गया ह्य!
ये धूप ने मुझसे कहा ह्य!
---------------------------------------डॉ. प्रार्थना पंडित